Top 100 Good Shayari in Hindi 2019 {100% Unique & Best}



Good Shayari in Hindi 2019 if you need good Shayari, let me give out a list of some of the best and fresh status, which you will like it for sure. Each of them is unique for sure. don't forget to share it!

Good Shayari in Hindi 2019


1.
ज़िंदगी है थोड़ा आहिस्ता चल,
कट ही जाएगा सफ़र आहिस्ता चल,
एक अंधी दौड़ है किस को ख़बर,
कौन है किस राह पर आहिस्ता चल!

2.
मुस्कुराओ क्या गम है,
जिंदगी में टेंशन किसको कम है,
अच्छा या बुरा तो केवल भ्रम है,
जिंदगी का नाम ही.. कभी खुशी कभी गम है!

3.
रुई का गद्दा बेच कर.. मैंने इक दरी खरीद ली,
ख्वाहिशों को कुछ कम किया मैंने और ख़ुशी खरीद ली..

सबने ख़रीदा सोना..मैने इक सुई खरीद ली,
सपनो को बुनने जितनी डोरी ख़रीद ली..

मेरी एक खवाहिश मुझसे मेरे दोस्त ने खरीद ली,
फिर उसकी हंसी से मैंने अपनी कुछ और ख़ुशी खरीद ली..

इस ज़माने से सौदा कर.. एक ज़िन्दगी खरीद ली,
दिनों को बेचा और शामें खरीद ली..

शौक-ए-ज़िन्दगी कमतर से और कुछ कम किये,
फ़िर सस्ते में ही “सुकून-ए-ज़िंदगी” खरीद ली!

4.
कोई खुशियों की चाह में रोया,
कोई दुखों की पनाह में रोया,
अजीब सिलसिला हैं ये ज़िंदगी का..
कोई भरोसे के लिए रोया,
कोई भरोसा कर के रोया!

5.
ज़िन्दगी का अनुभव थोड़ा कच्चा है,
जितना समय गुज़र गया.. अच्छा है,
अपना घरौंदा ख़ुशी से चहके सदा,
हम बड़े हो गए पर दिल तो बच्चा है।
शुभ प्रभात!

6.
जिंदगी के राज है तो राज रहने दो,
अगर हैं कोई एतराज तो रहने दो,
पर जब दिल करे हमें याद करने को,
तो उसे ये मत कहना के आज रहने दो!

7.
कुछ दबी हुई ख़्वाहिशें है, कुछ मंद मुस्कुराहटें.
कुछ खोए हुए सपने है, कुछ अनसुनी आहटें.
कुछ सुकून भरी यादें हैं, कुछ दर्द भरे लम्हात.
कुछ थमें हुए तूफ़ाँ हैं, कुछ मद्धम सी बरसात.
कुछ अनकहे अल्फ़ाज़ हैं, कुछ नासमझ इशारे.
कुछ ऐसे मंझधार हैं, जिनके मिलते नहीं किनारे.
कुछ उलझनें है राहों में, कुछ कोशिशें बेहिसाब.
बस इसी का नाम ज़िन्दगी है चलते रहिये, जनाब!

8.
अपनी ही तरह से परेशान है हर कोई,
इस तपती धूंप के लिए कोई दरख़्त नहीं है,
किसी के पास खाने के लिये रोटी नहीं है,
और किसी के पास रोटी खाने का वक़्त नहीं है!

9.
दिन कुछ ऐसे गुजारता है कोई,
जैसे ऐहसान उतारता है कोई,
आईना देखकर तसल्ली हुई,
हमको इस घर मे जानता है कोई,
पक गया है सजर मे फल शायद,
फिर से पत्थर उछालता है कोई,
दूर तक गूंजते है सन्नाटे,
जैसे हमको पुकारता है कोई!

10.
कल खो दिया आज के लिये,
आज खो दिया कल के लिये,
कभी जी ना सके हम आज आज के लिये,
बीत रही है जिदंगी.. कल आज और कल के लिये!

11.
सब के दिलों का एहसास अलग होता है,
इस दुनिया में सब का व्यवहार अलग होता है,
आँखें तो सब की एक जैसी ही होती है,
पर सब का देखने का अंदाज़ अलग होता है!
शुभ सवेरा!

12.
मशहूर होना लेकिन कभी मगरूर मत होना,
छू लो कदम कामयाबी के लेकिन कभी अपनों से दूर मत होना,
जिंदगी में खूब मिल जायेगी दौलत और शोहरत पर,
अपने ही आखिर अपने होते हैं ये बात कभी भूल मत जाना!

13.
एक खूबसूरत सोच!
अगर कोई पूछे जिंदगी में क्या खोया और क्या पाया,
तो कहना जो कुछ खोया वो मेरी नादानी थी और.
जो भी पाया वो प्रभू की मेहेरबानी थी,
खुबसूरत रिश्ता है मेरा और भगवान के बीच में,
ज्यादा मैं मांगता नहीं और कम वो देता नहीं!

14.
मायने ज़िन्दगी के बदल गये अब तो,
कई अपने मेरे बदल गये अब तो,
करते थे बात आँधियों में साथ देने की,
हवा चली और सब मुकर गये अब तो।

15.
मायने ज़िन्दगी के बदल गये अब तो,
कई अपने मेरे बदल गये अब तो,
करते थे बात आँधियों में साथ देने की,
हवा चली और सब मुकर गये अब तो।

16.
सुन ऐ ज़िंदगी मुश्किलों के सदा हल दे,
थक न सके हम फुर्सत के कुछ पल दे,
दुआ है दिल से सबको सुखद आज,
और एक बेहतर कल दे.
सुप्रभात!

17.
जिंदगी उसी को आजमाती है,
जो हर मोडपर चलना जानता है,
कुछ पा कर तो हर कोई मुस्कुराता है,
जिंदगी उसी की है.
जो सबकुछ खो कर भी मुस्कुराना जानता है।

18.
मन नही करता
कभी नींद आती थी..
आज सोने को “मन” नही करता,
कभी छोटी सी बात पर आंसू बह जाते थे..
आज रोने तक का “मन” नही करता,
जी करता था लूटा दूं खुद को या लुटजाऊ खुद पे..
आज तो खोने को भी “मन” नही करता,
पहले शब्द कम पड़ जाते थे बोलने को..
लेकिन आज मुह खोलने को “मन” नही करता,
कभी कड़वी याद मीठे सच याद आते हैं..
आज सोचने तक को “मन” नही करता,
मैं कैसा था? और कैसा हो गया हूं..
लेकिन आज तो यह भी सोचने को “मन” नही करता।

19.
ज़रा सी ज़िन्दगी,
ज़रा सी ज़िन्दगी में, व्यवधान बहुत हैं,
तमाशा देखने को यहां, इंसान बहुत हैं!
कोई भी नहीं बताता, ठीक रास्ता यहां,
अजीब से इस शहर में, ‘नादान’ बहुत हैं!
न करना भरोसा भूल कर भी किसी पे,
यहां हर गली में साहब बेईमान बहुत हैं!
दौड़ते फिरते हैं, न जाने क्या पाने को,
लगे रहते हैं जुगाड में, परेशान बहुत है!
खुद ही बनाते हैं हम, पेचीदा ज़िन्दगी को,
वर्ना तो जीने के नुस्खे, आसान बहुत हैं!

20.
सफर ज़िन्दगी का बहुत ही हसीन है,
सभी को किसी न किसी की तालाश है,
किसी के पास मंज़िल है तो राह नहीं,
और किसी के पास राह है तो मंज़िल नहीं।

21.
कदर कर लो उनकी जो तुमसे,
बिना मतलब की चाहत करते है,
दुनिया मे ख्याल रखने वाले कम,
और तकलीफ देने वाले ज्यादा होते है!

22.
किसी दिन ज़िंदगानी में करिश्मा क्यूं नहीं होता,
हर दिन जाग जाता हूँ ज़िन्दा क्यूं नहीं होता,
मेरी इक ज़िन्दगी में कितने हिस्सेदार हैं लेकिन,
किसी की ज़िंदगी में मेरा हिस्सा क्यूं नहीं होता!

23.
नही मांगता ए खुदा की जिंदगी 100 साल की दे,
दे भले चंद लम्हो की मगर कमाल की दे।

24.
नन्हे से दिल में अरमान कोइ रखना,
दुनिया की भीड़ में पहचान कोइ रखना,
अच्छे नहीं लगते जब तुम रहते हो उदास,
इन होठों पे सदा मुस्कान कोइ रखना!

25.
खुद को इतना भी मत बचाया कर,
बारिशें होतो भीग जाया कर,
चाँद लाकर कोई नहीं देगा,
अपने चेहरे से जगमगाया कर,
दर्द आँखों से मत बहाया कर,
काम ले कुछ हसीन होंठो से,
बातों-बातों में मुस्कुराया कर!

26.
कुछ गुज़री कुछ गुज़ार दी,
कुछ निखरी कुछ निखार दी,
कुछ बिगड़ी कुछ बिगाड़ दी,
कुछ अपनी रही कुछ अपनों पर वार दी,
कुछ इश्क में डूबी कुछ इश्क ने तार दी,
कुछ दोस्त साथ रहे कुछ कसर दुश्मनो ने उतार दी,
बस ज़िन्दगी मिली मुझे.. ज़िन्दगी जैसी ही गुज़ार दी!

27.
ज़िन्दगी तमाशा है और इस तमाशे में,
खेल हम बिगाड़ेंगे, खेल को बनाने में,
कारवां रुके तो उनका भी कुछ ख्याल आता है,
जो सफ़र में पिछड़े हैं, रास्ता बनाने में!

28.
Meri khamoshi thi jo sab kuchh sah gayi,
usaki yaaden hi ab is dil mein rah gayi,
thi shayad usaki bhi koi majboori,
jo meri zindagi ki kahani adhoori hi rah gayi!

29.
जिंदगी जैसे जलानी थी वैसे जला दी हमने गालिब..
अब धुएँ पर बहस कैसी और राख पर ऐतराज कैसा!

30.
कहती हैं मुझे ज़िन्दगी,
कि मैं आदतें बदल लूँ,
बहुत चला मैं लोगों के पीछे,
अब थोड़ा खुद के साथ चल लूँ!

Related Tags: Good Shayari in Hindi 2019