Top 100 Painful Status In Hindi

1. “गलतियों से जुदा तु भी नहीं, मैं भी नहीं, दोनों इंसान हैं, ख़ुदा तु भी नहीं, मैं भी नहीं,
गलतफहमियों ने कर दी दोनों में पैदा दूरियां वरना फितरत का बुरा तु भी नहीं था, मैं भी नहीं।”

2. “कर दिया कुर्बान खुद को हमने वफ़ा के नाम पर छोड़ गए वो हमको अकेला, मज़बूरियों के नाम पर।”

3. “तकलीफें तो हज़ारों हैं इस ज़माने में, बस कोई अपना नज़र अंदाज़ करे तो बर्दाश्त नहीं होता.”

4. “तरसेगा जब दिल तुम्हारा, मेरी मुलाकात को, ख्वाबों मे होंगे तुम्हारे हम, उसी रात को.”

5. “ऐसा करो, बिछड़ना है तो, रूह से निकल जाओ, रही बात दिल की, उसे हम देख लेंगे.”

6. “इश्क में इसलिए भी धोखा खानें लगें हैं लोग दिल की जगह जिस्म को चाहनें लगे हैं लोग.”

7. “तेरी दुनिया का यह दस्तूर भी अजीब है ए खुदा, मोहब्बत उनको मिलती है, जिन्हें करनी नहीं आती.”

8. “फिर नही बसते वो दिल जो एक बार उजड् जाते है, कब्रे जितनी भी सजा लो पर जिँदा कोई नही होता.”

9. “इस दुनिया मेँ अजनबी रहना ही ठीक है, लोग बहुत तकलीफ देते है अक्सर अपना बना कर !!”

10. “तन्हाई जब मुक़द्दर में लिखी है तो क्या शिकायत अपनों और बेगानों से हम मिट गए जिनकी चाहत में वो बाज ना आए हमे आज़माने से।”

11. “दिल किसी से तब ही लगाना जब दिलों को पढ़ना सीख लो, वरना हर एक चेहरे की फितरत में ईमानदारी नहीं होती.”

12. “तेरा नजरिया मेरे नजरिये से अलग था, शायद तूने वक्त गुजारना था और हमे सारी जिन्दगी.”

13. “ज़िन्दगी भी कमाल की हैं, तू गरीबो को महेल के सपने देखाती हैं, जिस में अमीरो को नींद नहीं आती!”

14. “अजीब दस्तूर है, मोहब्बत का, रूठ कोई जाता है, टूट कोई जाता है.”

15. “रह में चले ये सोच कर के किसीको अपना बनना लेंगे, मगर इस तम्मना ने ज़िन्दगी भर का मुसाफिर बनना दिया!”

16. “रूठा अगर तुझसे तो इस अंदाज से रूठूंगा, तेरे शहर की मिट्टी भी मेरे बजूद को तरसेगी.”

17. “ज़िन्दगी तु ही बता कैसे तुजसे प्यार करू, तेरी हर एक सुबह मेरी उम्र काम कर देती हैं!”

18. “ये प्यार की बातें किताबों में ही अच्छी लगती हैं तन्हाई भरी महफ़िल दर्दे दिल से ही सजती है तुम तो कर गए एक पल में पराया तेरी यादें ही हैं जो हमें अपनी लगती हैं।”

19. “वाह रे इश्क़ तेरी मासूमियत का जवाव नहीं, हँसा हँसा कर करता है बर्बाद तू मासूम लोगो को.”

20. “हम अपना दर्द किसी को कहते नही वो सोचते हैं कि हम तन्हाई सहते नहीं आँखों से आँसू निकले भी तो कैसे क्योंकि सूखे हुए दरिया कभी बहते नहीं।”

21. “Kitne Dardnak The Wo Manjar Jab Hum Bichade The Usne Kahaa Tha Jeena Bhi Nahi Or Rona Bhi Nahi.”

22. “हमने तुम्हें उस दिन से और ज़्यादा चाहा है, जबसे मालूम हुआ के तुम हमारे होना नही चाहते.”

23. “छोड दी हमने हमेशा के लिए उसकी, आरजू करना, जिसे मोहब्बत, की कद्र ना हो उसे दुआओ, मे क्या मांगना.”

24. “आने वाला कल अच्छा होगा, बस इसी सोच मे आज बीत जाता है.”

25. “शौक से तोडो दिल मेरा, मुझे क्या परवाह, तुम्ही रहते हो इसमें, अपना ही घर उजाड़ोगे.”

26. “काश एक ख़्वाहिश पूरी हो इबादत के बगैर, तुम आ कर गले लगा लो मुझे, मेरी इज़ाज़त के बगैर.”

27. “जो मैं रूठ जाऊँ तो तुम मना लेना, कुछ न कहना बस सीने से लगा लेना।”

28. “यूँ गुमसुम मत बैठो पराये से लगते हो, मीठी बातें नहीं करना है तो चलो झगड़ा ही कर लो.”

29. “एक मैं हूँ, किया ना कभी सवाल कोई, एक तुम हो, जिसका कोई नहीं जवाब.”

30. “Tumhe Na Pana Shayad Behtar Hai, Paa Ke Phir Se Tumhe Gawane Se.”

31. “वो देता है दर्द बस हमी को क्या समझेगा वो इन आँखों की नमी को लाखों दीवाने हों जिस के वो क्या महसूस करेगा एक हमारी कमी को।”

32. “धोखा देती है शरीफ चेहरों की चमक अक्सर, हर कांच का टूकड़ा हीरा नहीं होता.”

33. “जगाया उन्होंने ऐसा के अब तक सो न सके रुलाया उन्होंने ने फिर भी हम रो न सके न जाने क्या बात थी उन में जो अब तक हम किसी के भी न हो सके।”

34. “यूँ तो मशहूर हैं अधूरी मोहब्बत के, किस्से बहुत से, मुझे अपनी मोहब्बत पूरी करके, नई कहानी लिखनी हैं.”

35. “ज़ुबान खामोश आँखों में नमी होगी ये बस एक दास्तां-ए ज़िंदगी होगी भरने को तो हर ज़ख्म भर जाएगा कैसे भरेगी वो जगह जहाँ तेरी कमी होगी?”

36. “जरा ठहर ऐ जिंदगी तुझे भी सुलझा दूंगा, पहले उसे तो मना लूं जिसकी वजह से तू उलझी है.”

37. “पलकों के किनारे हमने भिगोए ही नहीं वो सोचते हैं हम रोए ही नहीं वो पूछते हैं कि ख़्वाबों में किसे देखते हो हम हैं कि एक उम्र से सोए ही नहीं।”

38. “वो बोलते रहे हम सुनते रहे, जवाब आँखों में था वो जुबान में ढूंढते रहे.”

39. “हर किसी के नसीब में सच्चा प्यार नहीं होता सब किस्मत का खेल है किसी का कोई दोष नहीं होता मेरे नसीब में सिर्फ तड़प, जुदाई, और नफरत ही बची है, अब खुश रह नहीं होता।”

40. “हाथ की लकीरें भी कितनी अजीब हैं, हाथ के अन्दर हैं पर काबू से बाहर.”

41. “भुला कर हमें वो क्या खुश रह पाएंगे साथ में नहीं हमारे जाने के बाद मुस्कुराएंगे दुआ है खुद से कि उन्हें दर्द ना देना हम तो सह गए, पर वो टूट जाएंगे।”

42. “किसी ने धूल क्या झोंकी आखों में, पहले से बेहतर दिखने लगा है.”

43. “नफ़रत कभी ना करना तुम हमसे यह हम सह नहीं पायेंगे एक बार कह देना हमसे, ज़रूरत नहीं अब तुम्हारी तुम्हारी दुनियाँ से हंसकर चले जायेंगे!”

44. “रिश्ते उन्ही से बनाओ जो निभानेकी औकात रखते हो, बाकी हरेक दिल काबिल-ऐ-वफा नही होता।”

45. “नज़र नवाज़ नज़रों में ज़ी नहीं लगता फ़िज़ा गई तो बहारों में ज़ी नहीं लगता ना पूछ मुझसे तेरे ग़म में क्या गुजरती है यही कहूंगा हज़ारों में ज़ी नहीं लगता।”

46. “गिरा दे जितना पानी है तेरे पास ऐ बादल, ये प्यास किसी की लेने से बुझेगी तेरे बरसने से नहीं.”

47. “भूल जाने का हौसला ना हुआ दूर रह कर भी वो जुदा ना हुआ उनसे मिल कर किसी और से क्या मिलते कोई दूसरा उनके जैसा ना हुआ!”

48. “क्या ऐसा नहीं हो सकता हम Pyaar मांगे… और तुम hme गले लगा के कहो, और कुछ?”

49. “बिताए हुए कल में आज को ढूँढता हूँ सपनों में सिर्फ आपको देखता हूँ क्यों हो गए आप मुझसे दूर, यह सोचता हूँ तन्हा, यारों से छुपकर रोता हूँ।”

50. “बहुत देर करदी तुमने मेरी धडकनें महसूस करने में. वो दिल नीलाम हो गया, जिस पर कभी हकुमत तुम्हारी थी.”

51. “कैसी अजीब तुझसे यह जुदाई थी, कि तुझे अलविदा भी ना कह सका तेरी सादगी में इतना फरेब था, कि तुझे बेवफा भी ना कहा सका।”

52. “एक हसरत थी की कभी वो भी हमे मनाये..पर ये कम्ब्खत Dil कभी उनसे रूठा ही नही. ”

53. “ग़म ने हंसने ना दिया, ज़माने ने रोने ना दिया इस उलझन ने जीने ना दिया थक के जब सितारों से पनाह ली नींद आई तो आपकी याद ने सोने ना दिया।”

54. “हाथ की नब्ज़ काट बैठा हूँ, शायद तुम दिल से निकल जाओ ख़ून के ज़रिये.”

55. “हर चेहरे पर गुमान उसका था बसा ना सका खाली मकान उसका था लाखों दर्द मिट गए दिल से लेकिन जो मिट ना सका वो एक नाम उसका था।”

56. “तुम मुझे अच्छे या बुरे नहीं लगते बस अपने लगते हो.”

57. “दिल नहीं लगता आपको देखे बिना दिल नहीं लगता आपके बारे में सोचे बिना आँखें भर आती हैं यह सोच कर कि किस हाल में होंगे आप हमारे बिना।”

58. “तजुर्बे ने एक ही बात सिखाई है, नया दर्द ही पुराने दर्द की दवाई है!”

59. “जुबान खामोश आँखों में नमी होगी ये बस दास्ताँ-ए-ज़िंदगी होगी भरने को तो हर ज़ख्म भर जाएंगेः कैसे भरेगी वो जगह जहाँ तेरी कमी होगी।”

60. “वो शाम का दायरा मिटने नहीं देते, हमसे सुबहे का इंतज़ार होता नहीं है.”

61. “प्यार करने वालों की किस्मत बुरी होती है मुलाक़ात जुदाई से जुड़ी होती है वक़्त मिले तो प्यार की किताब पढ़ना हर प्यार करने वालों की कहानी अधूरी होती है।”

62. “मेरी दिल की दिवार पर तस्वीर हो तेरी _और तेरे हाथों में हो तकदीर मेरी!”

63. “कौन कहता है कि हमारी जुदाई होगी ये अफवाह किसी दुश्मन ने फैलाई होंगी शान से रहेंगे आपके दिल में;
इतने दिनों में कुछ तो जगह बनाई होगी।”

64. “वो बड़े ताज्जुब से पूछ बैठा मेरे गम की वजह, फिर हल्का सा मुस्कराया और कहा, मोहब्बत की थी ना!”

65. “वो मिल जाते हैं कहानी बनकर दिल में बस जाते हैं निशानी बनकर जिन्हें हम रखते हैं आँखों में जाने वो क्यों निकल जाते हैं पानी बनकर।”

66. “जिसकी सजा तुम हो, मुझे एसा गुनाह करना हैं!”

67. “तुझे पाने की आरज़ू में तुझे गंवाता रहा हूँ रुस्वा तेरे प्यार में होता रहा हूँ मुझसे ना पूछ तू मेरे दिल का हाल तेरी जुदाई में रोज़ रोता रहा हूँ।”

68. “हम तुम्हें मुफ़्त में जो मिले हैं, क़दर ना करना हक़ है तुम्हारा.”

69. “मोहब्बत मुक़द्दर है एक ख्वाब नहीं ये वो रिश्ता है जिस में सब कामयाब नहीं जिन्हें साथ मिला उन्हें उँगलियों पर गिन लो जिन्हें मिली जुदाई उनका कोई हिसाब नहीं।”

70. “सुन रहा हैं ना तू रो रही ही हु में…”

71. “मेरी चाहत में कोई खोट तो नहीं शामिल फिर क्यों वो बार-बार आज़माए मुझे दिल उसकी याद से एक पल भी नहीं जुदा फिर कैसे मुमकिन है वो भूल जाए मुझे।”

72. “अगर वो मेरी होजाती, तो में दुन्यकी सारी कितबोसे लफ़्ज़े बेवफा मिटादेता!”

73. “हमें तो अपना दिल लगता अवारा है जो चाहे चला जाए हमें ठुकरा के रह लेंगे हम तो बस यूँ ही तन्हा बस एक आपके जाने से रह जाएंगे हम तड़प के।”

74. “साँसोका टूटजाना तो आमबात हैं, जहा अपने बदलजाये मोत तो तब आती हैं!”

75. “तू है मुझमें शामिल इस तरह तेरा तसव्वर ज़िक्र भी करूँ किस तरह चाहे दूर सही लेकिन तू है इस दुनिया में तेरी उम्मीद रहते हुए मैं मरुँ किस तरह।”

76. “इ सितमगर, कदर किया होती हैं तुजे वक़्क़त बताएगा!”

77. “तेरे होते हुए भी तन्हाई मिली वफ़ा करते भी देखो बुराई मिली जितनी दुआ की तुम्हें पाने की उस से ज्यादा तेरी जुदाई मिली।”

78. “उसने कहा था आँख भरके देखा करो, अब आँख भर आती हैं पर वो नज़र नहीं आती!”

79. “हो जुदाई का सबब कुछ भी मगर हम उसे अपनी खता कहते हैं वो तो साँसों में बसी है मेरे जाने क्यों लोग उसे मुझे जुदा कहते हैं।”

80. “सच्ची मोहबत तो अक्सर दिलतोड़ने वालीसेही होती हैं!”

81. “ऐ दोस्त कभी ज़िक्र-ए-जुदाई न करना मेरे भरोसे को रुस्वा न करना दिल में तेरे कोई और बस जाये तो बता देना मेरे दिल में रह कर बेवफाई न करना।”

82. “हम तेरे दिल में रहेंगे एक याद बनकर तेरे लब पे खिलेंगे मुस्कान बनकर कभी हमें अपने से जुदा न समझना हम तेरे चलेंगे आसमान बनकर।”

83. “अब नींदसे कोई वास्ता नहीं! मेरा कौन हैं, ये सोच सोच के रात गुज़र जाती हैं!”

84. “उसको चाहा पर इज़हार करना नहीं आया कट गयी उम्र पर हमें प्यार करना नहीं आया उसने कुछ माँगा भी तो मांगी जुदाई और हमें भी इंकार करना नहीं आया।”

85. “सच केह रहा हैं ये दीवाना, दिल्ना किसीसे लगाना!”

86. “अगर जिंदगी में जुदाई न होती तो कभी किसी की याद न आई होती अगर साथ गुजरा होता, हर लम्हा तो शायद रिश्तों में इतनी, गहराई न होती।”

87. “दर्द दिलो के कम होजाते अगर में और तुम हम होजाते!”

88. “तुझसे दूर अब हम जा नहीं सकते तुझसे प्यार कितना है यह हम बता नहीं सकते हमें मालूम है ये ज़िन्दगी है चार दिन की लेकिन तेरे बिन ये चार दिन तो क्या दो पल भी हम बिता नहीं सकते।”

89. “आइना कोई ऐसा बना दे ऐ खुदा जो, इंसान का चेहरा नहीं किरदार दिखा दे!”

90. “कुछ बिखरे सपने और आँखों में नमी है एक छोटा सा आसमान और उमीदों की ज़मीं है,
यूँ तो बहुत कुछ है ज़िंदगी में बस जिसे चाहते हैं उसी की कमी है।”

91. “में क्यों पुकारू उसे की लौट आओ, क्या उसे खबर नहीं की कुछ नहीं मेरे पास उसके सिवाय!”

92. “दिल की धड़कन को, एक लम्हा सबर नहीं शायद उसको अब मेरी ज़रा भी कदर नहीं हर सफर में मेरा कभी हमसफ़र था वो अब सफर तो है मगर वो हमसफ़र नहीं।”

93. “जी भर गया है तो बता दो हमें इनकार पसंद है इंतजार नहीं!”

94. “आज कुछ कमी सी है तेरे बगैर ना रंग ना रौशनी है तेरे बगैर वक़्त अपनी रफ़्तार से चल रहा है बस धड़कन थम सी गयी है तेरे बगैर।”

95. “तकलीफतो ज़िन्दगी देती हैं, मोतको तो लोगोने यूही बदनाम किया हैं!”

96. “हो जुदाई का सबब कुछ भी मगर हम उसे अपनी खता कहते हैं वो तो साँसों में बसी है मेरे जाने क्यों लोग उसे मुझे जुदा कहते हैं।”

97. “हमे जब नींद आएगी तो इस कदर सोएंगे के लोग रोएंगे हमे जगाने के लिए!”

98. “ज़ुबान खामोश आँखों में नमी होगी ये बस एक दास्तां-ए ज़िंदगी होगी भरने को तो हर ज़ख्म भर जाएगा कैसे भरेगी वो जगह जहाँ तेरी कमी होगी।”

99. “आइना कोई ऐसा बना दे ऐ खुदा जो, इंसान का चेहरा नहीं किरदार दिखा दे!”

100. “भूल जाने का हौसला ना हुआ दूर रह कर भी वो जुदा ना हुआ उनसे मिल कर किसी और से क्या मिलते कोई दूसरा उनके जैसा ना हुआ।”