Top 20 Khamoshi Shayari in Hindi 2019



Top 20 Khamoshi Shayari in Hindi 2019, here is the list of some of the best khamoshi Shayari from the internet. We have tried our level best to provide you the freshest content, don't forget to share it!

Top 20 Khamoshi Shayari in Hindi 2019

Top 20 Khamoshi Shayari in Hindi 2019


1.
मेरी खामोशियों में भी फसाना ढूंढ लेती है,
बड़ी शातिर है ये दुनिया बहाना ढूंढ लेती है,
हकीकत जिद किये बैठी है चकनाचूर करने को,
मगर हर आंख फिर सपना सुहाना ढूंढ लेती है।

2.
तड़प रहे है हम तुमसे एक अल्फाज के लिए,
तोड़ दो खामोशी हमें जिन्दा रखने के लिए।

3.
चलो अब जाने भी दो यार क्या करोगे दास्तान सुनकर,
खामोशी तुम समझोगे नहीं और बयां हमसे होगा नहीं।

4.
मेरी खामोशी से किसी को कोई फर्क नही पड़ता,
और शिकायत में दो लफ़्ज कह दूं तो वो चुभ जाते हैं।

5.
जब कोई ख्याल दिल से टकराता है,
दिल न चाह कर भी खामोश रह जाता है,
कोई सब कुछ कह कर प्यार जताता है,
कोई कुछ न कहकर भी सब बोल जाता है।

6.
तेरी खामोशी अगर तेरी मजबूरी है,
तो रहने दे इश्क कौन सा जरुरी है।

7.
लोग तो सो लेते हैं जमाने कि चाहेल पहेल में,
मुझे तो तेरी खामोशी सोने नहीं देती।

8.
भीगी आँखों से मुस्कुराने का मजा और है,
हँसते हँसते पलके भिगोने का मजा और है,
बात कह के तो कोई भी समझ लेता है,
खामोशी को कोई समझे तो मजा और है।

9.
गिला शिकवा ही कर डालो के कुछ वक़्त कट जाए,
लबो पे आपके यह खामोशी अच्छी नहीं लगती।

10.
हक़ीकत में खामोशी कभी भी चुप नहीं रहती है,
कभी तुम गौर से सुनना बहुत किस्से सुनाती है।

11.
मोहब्बत नहीं थी तो एक बार समझाया तो होता,
नादान दिल तेरी खामोशी को इश्क समझ बैठा।

12.
तेरी खामोशी जला देती है इस दिल की तमन्नाओ को,
बाकी सारी बातें अच्छी हैं तेरी तश्वीर में।

13.
शोर की तो उम्र होती है,
खामोशी सदाबहार है.

14.
खामोशी बहुत अच्छी है,
कई रिश्तों की अाबरू ढक लेती है।

15.
अपने ख़िलाफ बातें, मैं अक्सर खामोशी से सुनता हूँ..
जवाब देने का हक, मैने वक्त को दे रखा है...

16.
Log kehte hai samjho to
khaamoshiyan bhi bolti hai,
Mein arse se khaamosh hoon
Woh barson se bekhabar hai

17.
"Rutba" to khaamoshiyon ka hota hai... "Alfaaz" ka kya woh to... Badal jaate hain aksar haalaat dekh kar

18.
जज्बात कहते हैं, खामोशी से बसर हो जाएँ,
दर्द की ज़िद हैं कि दुनिया को खबर हो जाएँ

19.
चुभता तो बहुत कुछ हैं मुझे भी तीर की तरह,
लेकिन खामोश रहता हूँ तेरी तस्वीर की तरह.

20.
ख़ामोश शहर की चीखती रातें,
सब चुप हैं पर, कहने को है हजार बातें.